✽ रोजाना नई हिन्दी सेक्स कहानियाँ ✽

कामवाली के साथ मस्त चुदाई

0

प्रेषक :- विशाल…

हैल्लो दोस्तों कैसे हो आप ?

मैं विशाल एकबार फिर आपके सामने हाज़िर हूँ एक सत्य घटना को लेकर जिसमें मेरी कामवाली बाई को मैनें कैसे खूब चोदा. मेरी पहले स्टोरी का दोस्तों ने और आंटीयों ने बहुत मज़े लिए और रेस्पांस भी अच्छा दिया. मैं चाहता हूँ कि आप ऐसे ही मुझे मेल करते रहें चलो अब स्टोरी पर आता हूँ?

मेरी कामवाली जिसका नाम संगीता घोष और वह एक बंगाली है. उसकी उम्र लगभग 28 साल की है, उसकी उभरी हुई गांड और बड़े-बड़े बोब्स ने मुझे एकदम से उसका दीवाना बना दिया था. उसके फिगर का साइज़ 34-26-36 है. यह घटना हैं 28.02.2015 की मेरे परिवार वाले पूना गए थे शादी में, मैं 3 फ़रवरी को जाने वाला था मैं घर पर अकेला था सुबह का वक़्त था 7 बजे थे मैं सो रहा था तभी दरवाजे की बेल बजी मैं उठा और दरवाजा खोलकर देखा तो नौकरानी हैं. मैं फिर सुसु करके सोने चला गया और वो काम करने लगी करीब 7.30 बजे वो मेरे रूम में आई और पंखा बंद करके झाड़ू लगाने लगी.

मैं गर्मी के कारण उठ गया मैनें देखा वो झुककर झाड़ू लगा रही थी उसके बब्स दिखाई दे रहे थे वो भी बिना ब्रा के थे देखते ही मेरा 6″ का लंड खड़ा होने लगा मैं उसे घूर रहा था तभी मैनें सोचा थोड़ा इसे छेडू तो शायद इसकी चूत मिल जाये. मैं उठा और उसके पास गया उसको हाथ लगाया और बोला कि मेरा थोड़ा पाँव दबा दो दर्द हो रहा है तो उसने कहा कि पहले काम कर लेने दो. मैनें कहा छोडो ना कोई भी तो नहीं है बाद में काम करना वो मान गई मैं लेट गया मैनें हाफ पेंट पहन रखी थी, अंदर कुछ भी नहीं वो मेरा पाँव दबा रही थी और मैं उसका क्लीवेज देख रहा था.

इधर मेरा लंड खड़ा हो गया उसने देखा पर अपना काम कर रही थी करीब 10 से 15 मिनट बाद मुझे सेक्स चड़ा तो मैं पागल सा हो गया मैं उठा और उसे बेड पर सुलाया और उसकी साड़ी ऊपर कर दी वो चिल्लाने लगी कि छोडो मुझे क्या कर रहे हो. मैनें कुछ नहीं सुना और जोर-जोर से उसके होठं चूसना चालू किया और बब्स को खूब जोर-जोर से दबाने लगा वो मछली की तरह चटपटाने लगी मैनें अपना लंड निकाला और उसकी चूत पर रखकर धक्का मारा लेकिन लंड फिसल गया फिर मैं उसके दोनों पाँव फैलाकर लंड निशाने पर लगा कर जोर से मारा लंड आधा अंदर गया फिर 4 से 5 धक्कों के बाद मेरा लंड उसकी चूत में घुस गया और मैं गप गप गप करके पेल रहा था वो मुझे दूर हटने को बोल रही थी पर मुझपर सेक्स इतना चड़ा था कि कुछ समझ में नहीं आ रहा था!

10 मिनट बाद उसकी चूत गीली सी हो गई लेकिन मैं गपागप गपागप पेल रहा था  और बब्स को चूस रहा था उफ्फ्फ क्या मज़ा आ रहा था. सेक्स में इतना पागल था कि मैनें उसका ब्लाउज ही फाड़ दिया और खूब बब्स चूस रहा था उफ़ क्या बड़े-बड़े भूरे-भूरे निप्पल थे वह खूब चिल्ल्ला रही थी छोड और मैं कुछ नहीं सुन रहा था सिर्फ चोदने में लगा था करीब आधे घंटे बाद मेरा माल झड़ गया मैं उसके होंठ चूसकर चप चप चप चप करके माल अंदर गिरा दिया और उसके ऊपर सो गया वो बोली बंगाली में तुई की कोरली अमके तोर माँ के आस्ते दे सोब बोलबो. इसका मतलब तूने ये क्या किया मैं तेरी माँ को आने दे सब बोलूंगी. मैं उसके ऊपर से उठा और कहा जा अब अपना काम कर वो उठने की कोशिश कर रही थी लेकिन उसकी कमर में मोच अहा गई थी उसने कहा मैं नहीं उठ पा रही हूँ मैनें उसे उठाया लेकिन वो नहीं उठ पा रही थी फिर मैं बाथरूम गया पैशाब करके आया तो देखा कि वो नंगी ही सो गई उसकी चूत बालों से भरी हुई देखकर मेरा सेक्स करने का फिर से मन हो गया मैनें सोचा कि आज तो कुछ काम नहीं होगा आज तो सिर्फ इसको ही चोदता हूँ. मैं धीरे से उसके पास गया और उसकी चूत चाटने लगा उस पर मेरा माल गिरा हुआ था लेकिन मैं चाटने लगा अब और जोर-जोर से उसकी चूत में मुहँ अंदर डालकर खूब चाट रहा था करीब 10 मिनट बाद वो मॉनिंग करने लगी मेरे सर को पकड़ कर अपनी चूत पर रगड़ने लगी पूरा अंदर घुसा रही थी मैं भी मज़े में चाट रहा था!

फिर मैं उठा और अपना लौड़ा उसके मुंह में दे दिया वो नहीं ले रही थी मैनें जोर जबरदस्ती मुहँ में पेला खूब चुसवाया उसको और थोडी देर बाद मेरा माल मैनें उसके मुहँ में निकाल दिया. जैसे ही मैंने अपना लंड बाहर निकाला उसने जोर से मेरे ऊपर थूक दिया और बोली की क्या किया तूने छी फिर मैं लेट गया करीब 9.30 बज रहे थे मैं उठा और उसके बोब्स को फिर चूसने लगा और मेरा लंड फिर खड़ा हो रहा था मैं फिर उसके ऊपर आ गया वो बोली तेरा हुआ नहीं अभी तक मैनें कहा नहीं आज पूरे दिन भर तुझे चोदूंगा फिर मैनें उसके दोनों पाँव अपने कंधे पर रखे और लंड को चूत पर रखकर धक्का मारा मेरा लंड फट से अंदर चला गया क्योंकि उसकी चूत गीली थी!

फिर मैनें चोदना चालू किया भक भक चप चप अहा हा हा हा हा क्या मज़ा अहा रहा था उसकी बच्चेदानी में मेरा लंड लग रहा था उफ्फ्फ्फ़ गप गप गप चप चप पेलता जा रहा था, और वह चिल्ला रही थी निकाल जल्दी लेकिन में सटा-सट सटा-सट चोद रहा था क्या मज़ा आ रहा था उफ्फ्फ

करीब 1 घंटे की चुदाई हुई और मैनें अपना लंड निकालकर उसके बालों वाली चूत पर अपना माल गिरा दिया. फिर मेरे शरीर में एक अकड़ सी आ गयी मैं चित्त हो गया और वो भी झड़ गयी थी हम दोनों सो गए करीब 12.30 बजे मैं उठा तो मुझे सुसु आई थी मैं वापस आया तो देखा कि वो सो रही थी फिर मेरे दिमाग में एक आईडिया आया मैं तेल ले कर आया मैनें उसको पीछे घुमाया और उसकी पीठ की मालिश करता रहा अचानक मेरा लंड उसकी गांड में सट रहा था उसकी बडी गांड देख मेरा मन फिर पागल हो चुका था मैनें अपने लंड पर पूरा तेल लगाया और उसकी गांड के छेद पर भी. वो  चिल्लाई कहा पीछे मत करो मैनें कहा जब सब हो गया है तो इसे भी हो जाने दो मैनें लंड को उसकी बडी गांड के छेद पर लगाया और पेलना चालू किया थोड़ी देर रगड़ने के बाद वो अंदर ही नहीं जा रहा था फिर मैनें दोनों साइड से गांड को फैलाया और लंड पॉइंट पर रख कर धक्का मारा आधा लंड अंदर चला गया वो चिल्लाई अरे बाप रे

मैंने फिर धीरे धीरे करके 10 से 15 मिनट बाद अपना पूरा लंड उसके गांड में दे डाला और जोर से चोदना चालू किया गप गप गप गप अहा अहा अहा अहा. और वो चिल्ला रही थी में मर जाउंगी छोड मुझे लेकिन इतनी सॉलिड गांड कौन छोड़ेगा मैनें खूब जोर जोर से चोदा करीब 30 से 40 मिनट बाद मेरा माल गिरने वाला था मैनें लंड निकाला और उसकी गांड के छेद पर रख कर रगड़ने लगा मेरे माल से उसकी गांड गीली हो गई थी मैं बेड पर लेट गया वो बोली अब मैं किसी को मुंह दिखाने के लायक नहीं मैंने कहा इस रूम में मैं और तुम थे किसी को पता नहीं चलेगा चिंता मत करो फिर वो घूमी और धीरे धीरे उठी और खड़ी हुई लेकिन वो चल नहीं पा रही थी मैं उठा उसे बाथरूम ले गया नहलाया.

फिर उसे बाहर लेकर आया अपनी माँ की साडी दी वो उसने पहनी फिर मेरी तरफ घूमी और मुझे जोर से थपड मारा और कहा कि आज के बाद से मैं यहाँ नहीं आउंगी मैनें उसके हाथ पकड़े और जोर से चूमा और कहा कि तुम रोज आओगी उसने कहा क्यों मैनें कहा रुको! मैं गया पर्स से 6000 निकाले और उसको दिये वो बोली मतलब मेरी इज्जत तो ले लिया पैसे का क्या करुँगी मैनें कहा फिर मैं और दूंगा रखो तुम्हारे काम आएंगे और कुछ चाहिए तो बोलना. किसी को मत बोलना नहीं तो तुम्हारी बदनामी  होगी वो हँसी मुझे किस किया और चली गयी फिर उस दिन में बड़े आराम से सोया!

धन्यवाद दोस्तों !!

Comments are closed.

error: Content is protected !!