बहिन के बेटे से अपनी चूत की प्यास बुझाई

0
loading...

प्रेषक :- जीनत…

हाय फ्रेंड्स, मेरा नाम जीनत है, मैं भोपाल की रहने वाली हूँ. और मेरी उम्र 34 साल की है. दोस्तों मैं इस वेबसाइट की बहुत ही बड़ी मुरीद हूँ. मैं अपने कॉलेज के समय से ही बहुत सेक्सी और खूबसूरत रही हूँ, और मैं अपने कॉलेज में खूबसूरती की बहुत सी प्रतियोगिताएं भी जीत चुकी हूँ. मेरी लम्बाई 5.9 फुट है और मेरी टाँगे कुछ ज्यादा ही लम्बी है. दोस्तों मेरी शादी मेरी 23 साल की उम्र में ही हो गई थी, लेकिन शादी के 6 महीने के बाद ही मेरा तलाक़ भी हो गया था और तब से लेकर अब तक मैंने कभी दुबारा शादी ही नहीं की. और मैं अभी तक अपनी सेक्स की प्यास को बुझाने के लिए अलग-अलग आदमियों का सहारा लेती आई हूँ, मगर वह भी बहुत मुश्किल से और मैंने बहुत ही कम की मदद ली है. दोस्तों मेरे फिगर का साइज़ 34-30-36 का है और मेरी पूरी बॉडी एकदम बिना बालों वाली और एकदम चिकनी है।

हाँ तो दोस्तों अब मैं आप सभी का ज्यादा समय ना लेते हुए सीधे अपनी कहानी को शुरू करती हूँ जो मेरे साथ कुछ इस तरह से घटी थी।

दोस्तों मैं बहुत ही मॉडर्न ख्यालात की औरत हूँ और मुझको ज्यादातर सिर्फ़ शॉर्ट्स में ही रहना पसन्द है. और यह बात पिछले साल की ही है, जब मेरी बड़ी बहन के बेटे का एडमिशन मेरे ही शहर के एक मेडिकल कॉलेज में हुआ था, क्योंकि मैं अपने घर में अकेली ही रहती हूँ, इसलिए मेरा भान्जा मेरे यहाँ पर ही रुकने आ रहा था. मेरे भान्जे की उम्र 20 साल की है और मैं उससे आखरी बार 4 साल पहले मिली थी, तब वह बहुत छोटा था. और फिर रविवार के दिन मेरे घर के दरवाजे की घन्टी बजी तो मैं गेट खोलने के लिए गई. और फिर मैंने देखा कि, मेरा भान्जा जिसका नाम अरमान है, वह खड़ा हुआ था. उसने एक टी-शर्ट और जीन्स पहन रखी थी तो मैं तो उसको देखकर दंग ही रह गई थी, वह एकदम पूरा का पूरा बदल चुका था. उसकी लम्बाई और बॉडी दोनों ही बहुत बड़ गई थी, उसकी हाइट 6 फुट के आस-पास थी।

और फिर मैंने उसको अन्दर बुलाया और उसको उसका कमरा दिखाया और फिर मैंने उसको कहा कि, तुम फ्रेश हो जाओ और अपने कपड़े बदल लो और मैं तब तक तुम्हारे लिए खाना लगाती हूँ, और फिर वह फ्रेश होने चला गया. और फिर हम लोगों के 2-3 दिन तो साधारण तरीके से बहुत ही अच्छे से निकल गये और फिर चौथे दिन जब मैं बाथरूम में नहा रही थी, दोस्तों क्योंकि मैं घर में अकेली ही रहती हूँ तो मैं बाथरूम की कुण्डी नहीं लगाती हूँ और सिर्फ़ दरवाजे को हल्का सा अटका देती हूँ. और उस दिन भी दरवाजा बन्द नहीं था और फिर एकदम से मेरा भान्जा जो कि, सिर्फ़ अपने शॉर्ट्स में ही था और ग़लती से बाथरूम में आ गया तो, मैं वहाँ पर पूरी नंगी और गीले बदन के साथ खड़ी हुई थी और वह भी सिर्फ़ शॉर्ट्स में ही था, मैं उसको देखकर एकदम से डर गई थी और वह भी डर गया था, लेकिन उसने मुझे ऊपर से लेकर नीचे तक देखा और फिर वह जल्दी से बाहर चला गया. और फिर मैं नहाकर बाहर आई तो वह मुझसे अपनी नज़रे चुरा रहा था. और मैं भी उससे अपनी नज़रे नहीं मिला पा रही थी. और फिर उसी रात को मैं उसके कमरे के बाहर से गुजर रही थी तो मुझे उसके कमरे के अन्दर से कुछ अजीब सी आवाज़ आई. और फिर मैंने उसके कमरे में देखा तो वह अपना लंड अपनी पेन्ट से बाहर निकालकर मूठ मार रहा था और उसके हाथ में मेरी एक पैन्टी भी थी।

दोस्तों मैं तो वह नजारा देखकर एकदम से पागल ही हो गई थी क्योंकि उसकी पूरी बॉडी बहुत ही शानदार थी और उसका लंड भी बहुत बड़ा था. मुझे उसके साथ तुरंत सेक्स करने की चाहत होने लगी, लेकिन मैं अपने कमरे में जाकर चुपचाप सो गई थी और उस रात मैंने अपनी चूत में अपनी ऊँगली डालकर ही काम चलाया. और फिर अगले दिन जब वह नाश्ता करने आया तो मैं बहुत टाइट और छोटे शॉर्ट्स पहने हुई थी और ऊपर से एक बड़े गले वाली टी-शर्ट बिना ब्रा के जिसमें से मेरे बब्स एकदम साफ-साफ़ दिख रहे थे।

दोस्तों वह भी उस समय मुझको अपनी तिरछी नज़रों से देख रहा था और मैं भी उसको बार-बार किसी ना किसी बहाने से छू रही थी और अपने बब्स की झलक उसको दिखा रही थी. और फिर मैं उसको नाश्ता देने के बहाने उसके सामने झुककर खड़ी हो गई थी और मैंने अपने बब्स को एकदम उसके मुहँ से लगा दिया था. उसके बाद वह उठकर अपने कॉलेज चला गया. और फिर उस दिन रात में जब वह अपने कमरे में गया तो उसके कमरे का ए.सी. खराब हो गया था और उसने मुझे बताया. तो फिर मैंने उससे कहा कि, आज की रात तुम मेरे कमरे में ही सो जाओ, कल सुबह मैं तुम्हारे कमरे का ए.सी. ठीक करवा दूँगी. और फिर वह मेरे कमरे में सोने आ गया था. उसने उस समय सिर्फ़ अपना पजामा ही पहन रखा था और ऊपर कुछ भी नहीं था. दोस्तों वह उस समय मुझको बहुत ही हॉट दिख रहा था।

loading...

और फिर मैंने भी जल्दी से अपने कपड़े बदल लिए थे और मैंने भी सिर्फ़ एक छोटी सी निक्कर और ऊपर से बिना बाहँ की टी-शर्ट पहन ली थी. और फिर मैं बेड पर लेट गई थी. और वह भी मेरे बराबर में आकर लेट गया था और फिर कुछ देर तक इधर-उधर की बातें करने के बाद हम दोनों ही सो गए थे. और उस समय मैंने उसकी तरफ करवट ले रखी थी, मतलब कि, मेरी पीठ उसकी तरफ थी और वह भी मेरी पीठ की तरफ अपना मुहँ करके लेटा हुआ था. और फिर रात को अचानक से मेरी नींद खुली और मुझको अपनी पीठ पर उसका हाथ महसूस हुआ, लेकिन मैं चुपचाप लेटी रही और मैंने उसका कोई विरोध नहीं किया था. और फिर थोड़ी देर के बाद उसका हाथ मेरी टी-शर्ट के अन्दर जाने लगा और उसने अपना एक पैर मेरे कूल्हे के ऊपर रख दिया था और मैं तब भी चुपचाप लेटी थी. फिर थोड़ी देर में उसका हाथ मेरे बब्स तक आ गया था और फिर वह उनके साथ खेल रहा था. तो फिर मैंने भी हल्की-हल्की सी सिसकारियाँ भरनी शुरू कर दी थी. और फिर तो वह भी समझ गया था कि, मुझको भी मज़ा आ रहा है। और फिर मैंने भी उसकी तरफ अपना मुहँ कर लिया था और फिर उसने मेरी टी-शर्ट उतार दी थी. और फिर वह पागलों की तरह मेरे बब्स को चूसने लग गया था, और मैं भी मज़े ले रही थी. और उसके बाद हम दोनों ने एक दूसरे को किस करना शुरू कर दिया था और हम एक दूसरे को बहुत कसकर पकड़े हुए थे और लगभग आधे घंटे तक हम एकदूसरे को किस ही करते रहे. और उसने अपना बड़ा सा लंड मुझको दिया और चूसने को कहा।

दोस्तों मैंने कभी भी इतना बड़ा लंड उस दिन से पहले नहीं देखा था तो मैं थोड़ा घबरा रही थी. उसका लंड 7.5” लंबा और 3.5” मोटा था. फिर मैंने उसके लंड को चूसना शुरू किया और मैं उसको तब तक चूसती रही जब तक कि, उसका पानी नहीं निकल गया था. और उसके बाद उसने मेरी दोनों टाँगे खोल दी थी और फिर उसने अपनी जुबान डालकर मेरी चूत को चाटने लग गया था. दोस्तों मैं आपको बता नहीं सकती कि, कितने दिनों के बाद मुझे इतना शानदार अहसास हो रहा था, और वह मेरी चूत को चाटता जा रहा और फिर मैं थोड़ी ही देर के बाद झड़ गई थी. और फिर इस बार उसने मेरे दोनों बब्स को एक साथ पकड़ा और उनके बीच में अपना बड़ा सा लंड डालकर रगड़ने लगा. कसम से दोस्तों मुझको तो उस समय बहुत मज़ा आ रहा था, मगर मेरी उसके लंड से चुदवाने की प्यास अब बहुत बढ़ गई थी. और फिर उसने मुझको पकड़ा और मेरी चूत के छेद पर अपना लंड रख दिया और फिर वह मेरी चूत को अपने लंड से धीरे-धीरे सहलाने लगा था और उस समय मेरी तो मानो जान ही निकल रही थी। दोस्तों ये कहानी आप कामलीला डॉट कॉम पर पढ़ रहे है।

और फिर मैंने उससे बोला कि, अरमान मुझे अब और मत तड़पाओ और मुझे चोद डाल. आज से मैं तुम्हारी हुई और मेरे साथ जो चाहो वह करो. और फिर तो इतना सुनते ही उसके हौसले बुलंद हो गये थे और उसने मुझसे कहा कि, जीनत मौसी आप फ़िक्र मत करो, आपकी सालों की प्यास को आज मैं बुझा दूँगा. आपका भान्जा अब आपकी चूत को शान्त करेगा और आपको खुश भी रखेगा. फिर उसने एक ही धक्के से अपना लंड एक बार में ही पूरा मेरी चूत के अन्दर डाल दिया था, मेरी तो जैसे चीख ही निकल गई थी क्योंकि मैंने उस दिन से पहले इतना बड़ा लंड कभी अपनी चूत के अन्दर नहीं लिया था. और फिर मैं बिस्तर पर लेट गई थी और वह मेरे ऊपर था और वह बहुत तेजी से मेरी चूत में अपने लंड को अन्दर-बाहर कर रहा था और मेरे मुहँ से आहहह… उहहह… आहहह… की आवाजें निकल रही थी।

और फिर थोड़ी ही देर के बाद उसने कहा कि, अब उसका पानी निकलने वाला है. तो फिर मैंने उसको कहा कि, इसको मेरी चूत के अन्दर ही छोड़ दो. और फिर उसका गरम-गरम पानी मेरी चूत में निकलने के बाद हम लोग काफी देर तक एकदूसरे से चिपककर लेटे रहे और एक दूसरे के बदन को सहलाते रहे, और हल्के-हल्के झटकों के साथ उसका लंड अपनी आखरी बूँद तक मेरी चूत में निचोड़ रहा था. और फिर उसने मुझे खड़ा होने को कहा और फिर वह खुद भी खड़ा होकर उठ गया था. और फिर उसने मुझे अपनी गोद में उठा लिया था और फिर उसने अपने हाथों से मुझको ऊपर हवा में उठा लिया था. और फिर उसने मुझसे कहा कि, अब वह मेरी गांड मारना चाहता है तो मैंने उससे कहा कि, ठीक है मेरी जान, आज जो करना है वह करो। और फिर उसने मुझे ऊपर उठाते हुए ही मेरी गांड में अपना लंड घुसा दिया और उस समय मैं इतनी ज़ोर से चीखी कि, मेरी आवाज़ बाहर पड़ोसियों तक आराम से पहुँच गई होगी. और फिर उसने मुझे हवा में ही उठाकर रखा और वह मुझको अपनी गोद में उठाकर ही चोदने लग गया था. और मैं भी बहुत ज़ोर-ज़ोर से सिसकारियाँ भर रही थी और चीख भी रही थी।

दोस्तों यह मेरी ज़िंदगी में पहली बार था, जब किसी ने मेरी गांड में अपना लंड डाला हो और फिर लगभग आधे घंटे तक चोदने के बाद हम दोनों फिर से एक साथ में ही झड़ गये थे और फिर उसने मुझे नीचे उतार दिया था. और हम दोनों फिर से बेड पर लेट गये थे. और फिर उसने मुझसे कहा कि, जीनत मैंने तुम जैसी लड़की आज तक नहीं देखी. और फिर उसने मुझे बताया कि, उसने और भी बहुत सारी लड़कियों को चोदा है, लेकिन मेरे जैसी कोई नहीं थी. और उसने मुझे उस पूरी रात में 4 बार चोदा था और वह मेरी ज़िंदगी की सबसे शानदार रात थी।

और फिर हम दोनों बार-बार एक दूसरे को किस करते रहे और फिर चुदाई भी करते रहे और उस पूरी रात मैं चिल्लाती भी रही और सिसकारियाँ भी भरती रही और उसके बाद से आज तक हमको पूरा एक साल हो गया है और हम दोनों अब भी बहुत सेक्स करते है, और लगभग हर रोज ही. और हम दोनों बिल्कुल मियाँ बीवी की तरह रहते है, वह तो घर में मुझको कपड़े भी नहीं पहनने देता है और अब हम खूब मज़े करते है।

धन्यवाद कामलीला के प्यारे पाठकों !!

Share.

Comments are closed.

error: